अभिनय सम्राट का महाप्रस्थान – दिलीप कुमार

Spread the love

अभिनय सम्राट का महाप्रस्थान

जन्म11 दिसंबर, 1922; 

निधन: 7 जुलाई, 2021

जन्म का नाम: यूसुफ़ ख़ान 

– संजय तिवारी

अभिनय सम्राट दिलीप कुमार नही रहे। भारतीय सिनेमा के ट्रेजेडी किंग का महाप्रयाण भारतीय फिल्म जगत की बहुत बड़ी क्षति है। दिलीप कुमार

Dilip Kumar Sir

हिन्दी फ़िल्मों के एक प्रसिद्ध और लोकप्रिय अभिनेता है जो भारतीय संसद के उच्च सदन राज्य सभा के सदस्य रह चुके है। दिलीप कुमार को उनके दौर का बेहतरीन अभिनेता माना जाता है, त्रासद या दु:खद भूमिकाओं के लिए मशहूर होने के कारण उन्हे ‘ट्रेजिडी किंग’ भी कहा जाता था। उन्हें भारतीय फ़िल्मों के सर्वोच्च सम्मान दादा साहब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया गया है, इसके अलावा दिलीप कुमार को पाकिस्तान का सर्वोच्च नागरिक सम्मान निशान-ए-इम्तियाज़ से भी सम्मानित किया गया है। पेशावर में 11 दिसंबर 1922 को जन्‍में यूसुफ की आज भी किस्‍सा ख्‍वानी बाजार में हवेली है।

मौजूदा समय में ये खैबर पख्‍तूनख्‍वां में आती है। दिलीप कुमार काफी समृद्ध परिवार से ताल्‍लुक रखते हैं। उनके पिता न सिर्फ वहां के बड़े जमींदार थे बल्कि फलों के बड़े विक्रेता भी थे। आपको यहां पर ये भी बता दें कि राजकपूर और दिलीप कुमार बचपन के दोस्‍त थे। 1930 में दिलीप कुमार का परिवार चैंबूर में आकर बस गया था। दिलीप कुमार के जन्म का नाम मुहम्मद युसुफ़ खान है। उनका जन्म पेशावर (अब पाकिस्तान मे) में हुआ था। उनके पिता मुंबई आ बसे थे, जहाँ उन्होने हिन्दी फ़िल्मों में काम करना शुरू किया। उन्होने अपना नाम बदल कर दिलीप कुमार कर दिया ताकि उन्हे हिन्दी फ़िल्मो में ज्यादा पहचान और सफलता मिले। दिलीप कुमार ने अभिनेत्री सायरा बानो से 1966 में विवाह किया। विवाह के समय दिलीप कुमार 44 वर्ष और सायरा बानो की 22 वर्ष की थीं। 1980 में कुछ समय के लिए आसमां से दूसरी शादी भी की थी। 1980 में उन्हें सम्मानित करने के लिए मुंबई का शेरिफ घोषित किया गया। 1995 में उन्हें दादा साहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित किया गया। 1998 में उन्हे पाकिस्तान का सर्वोच्च नागरिक सम्मान निशान-ए-इम्तियाज़ भी प्रदान किया गया।

 ‘मुगले आजम’, ‘मधुमती’, ‘देवदास’ और ‘गंगा जमुना’ जैसी बेहतरीन फिल्मों में अपने यादगार अभिनय के लिए याद किए जाने वाले दिलीप कुमार और उनकी वाइफ सायरा बानो बॉलीवुड के सबसे पुरानी जोड़ी में से एक है। दिलीप कुमार और सायरा बानो की शादी 11 अक्टूबर 1966 को हुई थी। सायरा दिलीप से 22 साल छोटी हैं। हालांकि शादी के 50 साल के बाद भी दोनों की कोई संतान नहीं है। लेकिन क्या आपको पता है कि दिलीप कुमार आज तक बेऔलाद क्यों हैं।

दम घुटकर हुई बच्चे की मौतदिलीप कुमार ने इस बात का खुलासा अपनी आत्मकथा ‘द सबस्टांस एंड द शैडो’ में किया था। बुक में दिलीप कुमार ने कहा है, “सच्चाई यह है कि 1972 में सायरा पहली बार प्रेग्नेंट हुईं। 8 महीने की प्रेग्नेंसी में सायरा को ब्लड प्रेशर की शिकायत हुई।  इस दौरान पूरी तरह से डेव्लप हो चुके भ्रूण को बचाने के लिए सर्जरी करना संभव नहीं था। आखिरकार दम घुटने से बच्चे की मौत हो गई।” उनके मुताबिक इस घटना के बाद सायरा कभी प्रेग्नेंट नहीं हो सकीं। हालांकि हमें बाद में पता चला कि सायरा की कोख में बेटा था।

1980 में की दूसरी शादी 1980 में दिलीप कुमार ने आसमा रहमान नाम की महिला से दूसरी शादी की थी. इस शादी से दिलीप और सायरा के रिश्ते में दूरियां आ गई थी।आसमां और दिलीप कुमार की मुलाकात हैदराबाद में एक क्रिकेट मैच के दौरान हुई थी। इसके बाद दोनों का अफेयर लंबे समय तक चला था। लोगों के सवाल से बचने के लिए दिलीप कुमार ने घर से निकलना तक छोड़ दिया था। कहा गया कि आसमां दिलीप साहब को धोखा दे रही थीं। इस वजह से उन्होंने आसमां को तलाक दिया और वापस सायरा की ओर लौट आए।आसमा रहमान के साथ अपने अफेयर का जिक्र उन्होंने अपनी बायोग्राफी ‘द सबस्टांस एंड द शैडो’ में किया है।

12 भाई-बहन थे दिलीप कुमार दिलीप कुमार का जन्म लाला गुलाम सरवार के घर हुआ था जो फलों के व्यापारी थे। पेशावर में उनके पिता के बाग थे।दिलीप कुमार 12 भाई- बहन थे. उनकी पहली फिल्म ‘ज्वार भाटा’ थी, जो 1944 मे आई। दिलीप को 1949 मे आई फिल्म अंदाज की सफलता से फेम मिला।  इस फिल्म मे उन्होने राज कपूर के साथ काम किया था।

करियरउनकी पहली फ़िल्म ‘ज्वार भाटा’ थी, जो 1944 में आई।1949 में बनी फ़िल्म अंदाज़ की सफलता ने उन्हे प्रसिद्धी दिलाई, इस फ़िल्म में उन्होने राज कपूर के साथ काम किया। दिदार (1951) और देवदास (1955) जैसी फ़िल्मो में दुखद भूमिकाओं के मशहूर होने के कारण उन्हे ट्रेजिडी किंग कहा गया। मुगले-ए-आज़म (1960) में उन्होने मुग़ल राजकुमार जहांगीर की भूमिका निभाई। यह फ़िल्म पहले श्वेत और श्याम थी और 2004 में रंगीन बनाई गई। उन्होने 1961 में गंगा-जमुना फ़िल्म का निर्माण भी किया, जिसमे उनके साथ उनके छोटे भाई नासीर खान ने काम किया।

1970, 1980 और 1990 के दशक में उन्होने कम फ़िल्मो में काम किया। इस समय की उनकी प्रमुख फ़िल्मे थी: विधाता (1982), दुनिया (1984), कर्मा (1986), इज्जतदार (1990) और सौदागर (1991)। 1998 में बनी फ़िल्म किला उनकी आखरी फ़िल्म थी।उन्होने रमेश सिप्पी की फ़िल्म शक्ति में अमिताभ बच्चन के साथ काम किया। इस फ़िल्म के लिए उन्हे फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार भी मिला।


फ़िल्मफ़ेयर पुरस्कार

1983 – फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार – शक्ति

1968 – फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार – राम और श्याम

1965 – फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार – लीडर

1961 – फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार – कोहिनूर

1958 – फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार – नया दौर

1957 – फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार – देवदास

1956 – फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार – आज़ाद

1954 – फ़िल्मफ़ेयर सर्वश्रेष्ठ अभिनेता पुरस्कार – दाग


प्रमुख फिल्मे

सौदागर (1991 फ़िल्म)

आग का दरिया (1990 फ़िल्म)

इज्जतदार (1990 फ़िल्म)

कानून अपना अपना (1988 फ़िल्म

)कर्मा (1986 फ़िल्म)

धर्म अधीकारी (1986 फ़िल्म)

मशाल (1984 फ़िल्म)

दुनिया (1984 फ़िल्म)

मज़दूर (1983 फ़िल्म)

शक्ति (1982 फ़िल्म)

विधाता (1982 फ़िल्म)

क्रांती (1981 फ़िल्म)

बैराग (1976 फ़िल्म)

फिर कब मिलोगी (1974 फ़िल्म)

सगीना (1974 फ़िल्म)

अनोखा मिलन (1972 फ़िल्म)

दास्तान (1972 फ़िल्म)

कोशिश (1972 फ़िल्म)

गोपी (1970 फ़िल्म)

सगीना महातो (1970 फ़िल्म)

आदमी (1968 फ़िल्म)

साधु और शैतान (1968 फ़िल्म)

संघर्ष (1968 फ़िल्म)

राम और श्याम (1967 फ़िल्म)

दिल दिया दर्द लिया (1966 फ़िल्म)

लीडर (1964 फ़िल्म)

गंगा जमुना (1961 फ़िल्म)

मुगल-ए-आज़म (1960 फ़िल्म)

कोहिनूर (1960 फ़िल्म)

पैगाम (1959 फ़िल्म)

मधुमती (1958 फ़िल्म)

यहुदी (1958 फ़िल्म)

मुसाफिर (1957 फ़िल्म)

नया दौर (1957 फ़िल्म)

आजाद (1955 फ़िल्म)

देवदास (1955 फ़िल्म)

इंसानियत (1955 फ़िल्म)

उडन खटोला (1955 फ़िल्म)

अमर (1954 फ़िल्म)

फुटपाथ (1953 फ़िल्म)

शिक्स्त (1953 फ़िल्म)

आन (1952 फ़िल्म)

दाग (1952 फ़िल्म)

संगदिल (1952 फ़िल्म)

दिदार (1951 फ़िल्म)

हलचल (1951 फ़िल्म)

तराना (1951 फ़िल्म)

आरजू (1950 फ़िल्म)

बाबुल (1950 फ़िल्म)

जोगन (1950 फ़िल्म)

अंदाज (1949 फ़िल्म)

शबनम (1949 फ़िल्म)

अनोखा प्यार (1948 फ़िल्म)

घर की इज्जत (1948 फ़िल्म)

मेला (1948 फ़िल्म)

नदिया के पार (1948 फ़िल्म)

शहीद (1948 फ़िल्म)

जुगनू (1947 फ़िल्म)

नौका डूबी (1947 फ़िल्म)

प्रतिमा (1945 फ़िल्म)

ज्वार भाटा (1944 फ़िल्म)

Akhilesh yadav on Dilip Kumar Sir

~~~The Legend Dilip Kumar Sir

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *