सचिन तेंदुलकर अस्पताल में भर्ती, अकरम बोले- आपने तो धुरंधरों के छक्के छुड़ा दिए ये कोरोना क्या है?

Spread the love

Vidya Gyan Desk: एक तरफ जहां भारतीय क्रिकेट टीम (Team India) 2011 विश्व कप (World Cup 2011) की शानदार खिताबी जीत की 10वीं सालगिरह का जश्न मना रही है वहीं उस टीम का हिस्सा रहे भारत के महानतम क्रिकेट स्टार सचिन तेंडुलकर (Sachin Tendulkar Covid-19 Positive) को अस्पताल में भर्ती होना पड़ा है।

सचिन 6 दिन पहले कोरोना पॉजिटिव (Sachin Tendulkar Covid-19 Positive) पाए गए थे। सचिन के हॉस्पिटलाइज होते ही पूरी दुनिया से उनकी सलामती की दुआ मांगी जा रही है।

इस मौके पर पाकिस्तान के पूर्व महान गेंदबाज वसीम अकरम (Wasim Akram On Sachin Tendulkar) ने सचिन तेंडुलकर (Sachin Tendulkar) के डेब्यू सीरीज को याद किया है। उन्होंने कहा कि जिस अंदाज में आपने उस 16 वर्ष की छोटी उम्र में बड़े-बड़े धुरंधरों के छक्के छुड़ा दिए थे उसी तरह कोविड को भी बाउंड्री पार भेजेंगे और जल्द स्वस्थ होकर लौटेंगे।

महान गेंदबाज ने मास्टर को फाइटर करार देते हुए लिखा- जब आप 16 साल के थे, तब भी आपने दुनिया के सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजों की हिम्मत और हौसले के साथ संघर्ष किया… मुझे यकीन है कि आप कोविड-19 को सिक्स को भी छक्का मारेंगे! जल्द ही उबर जाओ मास्टर।

उन्होंने सचिन से वर्ल्ड कप जीत के 10वीं सालगिरह का जश्न अनोखे अंदाज में मनाने की सलाह देते हुए लिखा- डॉक्टरों और अस्पताल के कर्मचारियों के साथ भारत की विश्व कप 2011 की वर्षगांठ मनाएंगे तो बहुत अच्छा होगा… मुझे एक तस्वीर भेजें।

क्रिकेट के भगवान कहे जाने वाले सचिन तेंडुलकर ने आज ही के दिन 1989 में पाकिस्तान के खिलाफ टेस्ट डेब्यू किया था। उस वक्त वह सिर्फ उम्र 16 वर्ष 205 दिन थे। उन्होंने अपने पहले मैच की पहली पारी में 15 रन बनाए थे, जिसमें दो चौके शामिल थे।

मैच में पाकिस्तान के उस वक्त के सबसे घातक गेंदबाज माने वाले वकार यूनिस, अब्दुल कादिर और खुद वसीम अकरम जैसे धुरंधर सचिन को बोलिंग की थी। बच्चे से दिखने वाले सचिन ने डेब्यू सीरीज में अपनी बैटिंग स्किल से हर किसी को हैरान किया था।

47 साल के तेंडुलकर ने टेस्ट क्रिकेट इतिहास में सबसे ज्यादा 15,921 रन बनाए हैं। एकदिवसीय मैचों में उनका 18,426 रन भी प्रारूप में किसी के द्वारा बनाए गए सबसे अधिक रन हैं। तेंडुलकर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में 100 शतक लगाने वाले एकमात्र खिलाड़ी भी हैं। उन्होंने 1989 और 2013 के बीच अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खेला और 2011 की 50 ओवर की विश्व कप विजेता भारतीय टीम का भी हिस्सा रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *