Yogi Govt 4 Years: भगवा, एंकाउंटर, आईपैड… सख्त फैसलों के बीच CM योगी ने दिखाई संवेदनशीलता

Spread the love

Vidya Gyan Desk: Yogi Govt 4 Years in UP: यूपी की योगी आदित्यनाथ सरकार (UP Yogi Govt) को आज 4 साल पूरे हो गए हैं। प्रचंड बहुमत और जनाकांक्षाओं की लहर पर सवार बीजेपी सरकार (BJP Govt in UP) की कमान जब योगी आदित्यनाथ (Yogi Adityanath) को दी गई थी तो पार्टी के भीतर- बाहर कौतूहल था।

पार्टी के ‘चाणक्य’ अमित शाह (Amit Shah) ने फैसले की वजह दो साल बाद बताई। कहा- ‘एक ऐसा शख्स जो समर्पित और कठिन परिश्रम करने की योग्यता रखता हो वह हर परिस्थितियों में खुद को ढाल लेगा, इसलिए हमने यूपी का भविष्य योगी के हाथों में दे दिया। उन्होंने इस फैसले को सही साबित किया।’ विश्लेषक भी मानते हैं कि चार साल में योगी (Yogi Govt 4 Years in UP) ने स्थापित मिथकों को तोड़ मिशन की ओर कदम बढ़ाए हैं।

लखनऊ विश्वविद्यालय में लोक प्रशासन के प्रफेसर मनोज दीक्षित कहते हैं कि योगी ने उनका आकलन भगवा बाने तक सीमित रखने वालों के मिथ को कई बार तोड़ा। खुद को ‘नास्तिक’ कहने वाले चेहरे कुर्सी की चिंता में नोएडा जाने से बचते रहे। वहीं, आस्थापीठ के महंत योगी ने बार-बार दौरा कर खुद को अधिक आधुनिक और वैज्ञानिक सोच वाला साबित किया।

आक्रामक फैसले से बदली लोगों की धारणा

प्रफेसर दीक्षित ने बताया कि सत्ता संभालने के छह महीने बाद ही गोरखपुर मेडिकल कॉलेज में ऑक्सिजन कांड पर मुखर आलोचकों का जवाब इंसेफलाइटिस पर निर्णायक वार करके दिया। भगवा के साथ आईपैड की जुगलबंदी कर रहे योगी ने आक्रामक फैसलों से लोगों की धारणा और प्रदेश की तस्वीर बदली है। कोविड काल में यूपी की भूमिका उनकी दूरदर्शिता और दृढ़ क्षमता की नजीर है।

धर्म संग अर्थ का भी ध्यान

योगी की अगुवाई में सरकार ने आस्था के पीठों में ‘शीश नवाया’, उन्हें संवारा तो निवेश समिट के जरिए प्रदेश के अर्थशास्त्र को बदलने के लिए भी कदम बढ़ाए। ईज ऑफ डूइंग बिजनेस की रैंकिंग में सुधार व निवेशकों की यूपी वापसी इसकी तस्दीक करते हैं। संगठित अपराध के खिलाफ चले अभियान ने इसकी जमीन तैयार की तो नीतियों में व्यापक बदलाव कर लालफीताशाही को दूर करने की कवायद हुई।

OPOD के जरिए आधुनिक बाजार से जुड़े गांव

बड़े निवेश के साथ ही ओडीओपी ने गांव-कस्बों के परंपरागत शिल्प को आधुनिक बाजार से जोड़ा। एनकाउंटर को लेकर उठे आलोचना के सुर दरकिनार कर योगी सरकार ने कानूनों का फंदा कसना जारी रखा। भ्रष्ट अफसरों-कर्मचारियों को भी बर्खास्त किया।

राम-कृष्ण की धरती को विकास योजनाओं से जोड़ने के साथ ही यूपी में फिल्मसिटी का खाका खींचने के लिए सीएम खुद मुंबई पहुंचे। बीजेपी के प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्रदेव सिंह कहते हैं कि योगी सरकार की दृढ़ता, दूरदर्शिता व सजग प्रबंधन ने प्रदेश का वातावरण बदला है।

पहली बार पहल…

  • 6 बार अंधविश्वास को दरकिनार कर नोएडा पहुंचे
  • 15 साल बाद अयोध्या जाने वाले पहले सीएम
  • 75 जिलों का दौरा करने वाले पहले मुख्यमंत्री
  • ई-कैबिनेट और ई-बजट लागू करने वाली पहली सरकार

सख्ती की डंडा…

  • सीएए के प्रदर्शनों के बीच सार्वजनिक संपत्ति का नुकसान करने वालों से वसूली
  • जबरन धर्मांतरण, शादी के नाम पर धर्म परिवर्तन, गोकशी रोकने को कानूनी जामा
  • अपराधियों की संपत्ति पर बुलडोजर चले, एनकाउंटर से तोड़े हौसले
  • पुलिस कमिश्नरी सिस्टम लागू, गलती पर आईपीएस भी हुए इनामी

संवेदनशीलता का छाप…

  • 900 करोड़ रुपये से अधिक इलाज को दिए, पिछली सरकार से 30% अधिक
  • कोरोना काल में दिहाड़ी मजदूरों को विशेष भत्ता देने वाला यूपी पहला राज्य
  • लॉकडाउन के पालन का संदेश देने के लिए पिता की अंत्येष्टि में नहीं गए सीएम
  • इंसेफलाइटिस के खिलाफ अभियान, 95% घटी मौतें

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *