IND vs ENG T20: रोहित शर्मा के कप्तान बनते ही पलटा चौथा टी20, हारी हुई बाजी जीती टीम इंडिया

Spread the love

Vidya Gyan Desk: Ind vs Eng 4th T20: भारत और इंग्लैंड (IND vs ENG) के बीच 5 टी20 की सीरीज 2-2 से बराबर (India vs England T20I Series) हो गई है। गुरुवार को हुए चौथे टी20 में मेजबान टीम भारत ने इंग्लैंड को एक रोमांचक मुकाबले में 8 विकेट से हराया।

टीम इंडिया (Team India) के लिए ये जीत इसलिए भी खास है क्योंकि इस मैच के आखिरी 4 ओवर में चोटिल विराट कोहली (Virat Kohli) की जगह रोहित शर्मा (Rohit Sharma) ने टीम की कमान संभाली और अपनी कुशल रणनीति के दम पर टीम इंडिया (Ind vs Eng 4th T20) के लिए हारी हुई बाजी पलट दी।

दरअसल, फील्डिंग के दौरान विराट कोहली (Virat Kohli) की मांसपेशियों में खिंचाव आ गया था। इसी वजह से वो मैदान से बाहर चले गए थे और रोहित को टीम की कमान संभालनी पड़ी। उस समय इंग्लैंड को जीतने के लिए 24 गेंदों में 46 रन चाहिए थे और उसके 6 विकेट बाकी थी। क्रीज पर बेन स्टोक्स(46) और कप्तान ऑयन मोर्गन (4) रन खेल रहे थे। इंग्लैंड की जीत उम्मीदें ज्यादा नजर आ रही थी। लेकिन रोहित के हाथों में कप्तानी आते ही मैच का रुख ही बदल गया।

उन्होंने पारी का 17वां ओवर तेज गेंदबाज शार्दुल ठाकुर को दिया। इस ओवर से पहले तक शार्दुल को एक भी विकेट नहीं मिला था। गेंदबाजी से पहले कप्तान ने शार्दुल को कुछ समझाया और अपनी पहली ही गेंद पर इस तेज गेंदबाज ने बेन स्टोक्स को आउट कर दिया। 46 रन पर खेल रहे स्टोक्स ने सूर्यकुमार यादव को कैच थमा दिया। अगली ही गेंद पर शार्दुल ने इंग्लैंड के कप्तान ऑयन मोर्गन को वॉशिंगटन सुंदर के हाथों कैच करवा दिया।

इन दो विकेटों ने पासा ही पलट दिया और मैच में टीम इंडिया की वापसी हुई। इसके बाद रोहित ने 18वां ओवर हार्दिक को दिया। गेंदबाजी से पहले कप्तान रोहित ने उनसे भी बात की। ओवर की आखिरी गेंद पर सैम कर्रन को बोल्ड कर हार्दिक ने कप्तान रोहित के फैसले को सही साबित किया।

रोहित की कूल कप्तानी से जीती टीम इंडिया

मैच का आखिरी ओवर भी रोहित ने शार्दुल को दिया। इंग्लैंड को जीत के लिए इस ओवर में 23 रन चाहिए थे। स्ट्राइक पर इंग्लैंड के तेज गेंदबाज जोफ्रा आर्चर थे। उन्होंने शार्दुल की पहली तीन गेंद पर एक चौके और एक छक्के की बदौलत 11 रन बना लिए थे। इससे शार्दुल दबाव में आ गए थे, लेकिन इस नाजुक मौके पर रोहित ने स्थिति संभाली और शार्दुल से कहा कि अपनी सोच पर भरोसा करो और उसी आधार पर गेंदबाजी करो।

कप्तान के इस भरोसे को शार्दुल ने टूटने नहीं दिया और पांचवीं गेंद पर क्रिस जॉर्डन को आउट कर मैच भारत की झोली में डाल दिया। इस जीत के बाद कप्तान विराट कोहली ने भी राहत की सांस ली।टीम इंडिया की जीत के बाद आईसीसी ने भी रोहित और विराट की एक-दूसरे से हाथ मिलाने की एक तस्वीर शेयर की।

रोहित ने मुंबई इंडियंस को 5 बार आईपीएल का चैम्पियन बनाया

रोहित ने इस मैच में आखिरी के 4 ओवर में जिस शांत ढंग से कप्तानी की। उससे एक बार फिर ये बहस तेज हो गई कि उन्हें छोटे फॉर्मेट में टीम की कप्तानी देनी चाहिए। फैंस के साथ ही पूर्व दिग्गज भी इस बात को दोहरा रहे हैं। इसकी वजह भी है क्योंकि रोहित की कप्तानी में मुंबई इंडियंस (Mumbai Indians) ने 5 बार आईपीएल का खिताब जीता है, जबकि विराट एक बार भी अपनी टीम रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु (Royal Challengers Bangalore) को आईपीएल चैम्पियन नहीं बना पाए हैं।

रोहित की कप्तानी में भारत ने 79 फीसदी टी20 जीते

अंतरराष्ट्रीय टी20 में दोनों की कप्तानी का रिकॉर्ड देखें तो रोहित का पलड़ा विराट पर भारी ही नजर आता है। उनकी कप्तानी में भारत ने 19 में से 15 टी20 जीते हैं, जबकि 4 में हार मिली है। दूसरी ओर, विराट की अगुआई में भारत ने 44 टी20 में से 26 जीते और 14 हारे हैं। दो मैच टाई जबकि दो बेनतीजा रहे हैं। यानी रोहित की कप्तानी में भारत ने करीब 79 फीसदी टी20 जीते हैं। वहीं, विराट की कप्तानी में जीत का प्रतिशत 59 रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *